A A A A A

दिन का पद्य

गलाती 6:2
एक दोसराक भार उठाउ। एहि तरहेँ अहाँ सभ मसीहक नियम पूरा करब।