A A A A A

अच्छा चरित्र : [प्रतिबद्धता]

1 यूहन्‍ना 4:20
जँ केओ कहैत अछि जे, हम परमेश्‍वर सँ प्रेम करैत छी, जखन कि अपना भाय सँ घृणा करैत अछि, तँ ओ झूठ बाजऽ वला अछि। कारण, जे अपना भाय सँ जकरा ओ देखने छैक प्रेम नहि करैत अछि, से परमेश्‍वर सँ जिनका ओ नहि देखने छनि कोना प्रेम कऽ सकैत अछि?

2 तिमुथियुस 1:12
एही कारणेँ हम एतऽ ई कष्‍ट सहि रहल छी, मुदा हम एहि सँ लज्‍जित नहि छी, कारण, हम जनैत छी जे हम किनका पर विश्‍वास कयने छी और हमरा कनेको सन्‍देह नहि अछि जे, जे किछु हम हुनका रखबाक लेल सौंपि देने छियनि, तकरा ओ अपन अयबाक दिन तक सुरक्षित राखऽ मे सामर्थ्‍यवान छथि।

2 तिमुथियुस 2:15
अहाँ अपना केँ परमेश्‍वर द्वारा ग्रहणयोग्‍य व्‍यक्‍तिक रूप मे परमेश्‍वरक समक्ष प्रस्‍तुत करबाक पूरा प्रयत्‍न करू, अर्थात्‌ एहन कार्यकर्ताक रूप मे जकरा लज्‍जित होयबाक कोनो कारण नहि होइक और जे सत्‍यक सिद्धान्‍त ठीक सँ सिखबैत होअय।

2 तिमुथियुस 4:7
हम नीक लड़ाइ लड़ि लेलहुँ, अपन दौड़ पूरा कऽ लेलहुँ और अपन विश्‍वास पर अटल रहलहुँ।

मसीह-दूत 2:42
ओ सभ मसीह-दूत सभक शिक्षा मे, सत्‍संग मे, “प्रभु-भोज” मे आ प्रार्थना मे तल्‍लीन रहऽ लागल।

कुलुस्‍सी 1:29
एहि उद्देश्‍यक पूर्तिक लेल हम हुनका सामर्थ्‍य सँ, जे हमरा मे प्रबल रूप सँ क्रियाशील अछि, कठिन परिश्रम करैत संघर्ष मे लागल रहैत छी।

गलाती 1:4
मसीह अपना सभक पापक प्रायश्‍चित्तक लेल अपना केँ अर्पित कयलनि जाहि सँ एहि वर्तमान पापमय संसारक वश सँ अपना सभ केँ बचबथि। ई अपना सभक पिता परमेश्‍वरक इच्‍छाक अनुसार भेल,

गलाती 6:9
अपना सभ भलाइक काज करऽ सँ थाकी नहि, किएक तँ जँ अपना सभ हिम्‍मत नहि हारब तँ उचित समय पर कटनी काटब।

यूहन्‍ना 8:12
बाद मे यीशु फेर लोक सभ केँ कहलनि, “हम संसारक इजोत छी। जे केओ हमरा पाछाँ आओत, से अन्‍हार मे कहियो नहि चलत, बल्‍कि जीवनक इजोत प्राप्‍त करत।”

यूहन्‍ना 9:62
मुदा दोसर सभ कहैत छलाह, “जकरा मे दुष्‍टात्‍मा छैक, से की एहन बात सभ कहत? की दुष्‍टात्‍मा कतौ आन्‍हरक आँखि खोलि सकैत अछि?”

मत्ती 4:19
यीशु ओकरा सभ केँ कहलथिन, “हमरा पाछाँ आउ। हम अहाँ सभ केँ मनुष्‍य केँ पकड़ऽ वला मछबार बना देब।”

फिलिप्‍पी 3:13
यौ भाइ लोकनि, हम नहि मानैत छी जे एखन तक हम ओहि लक्ष्‍य धरि पहुँचि गेल छी। मुदा हम एकटा काज करैत छी—जे पाछाँ अछि तकरा बिसरि कऽ आगाँ वला बातक लेल प्रयत्‍नशील रहैत छी।

Maithili Bible 2010
©2010 The Bible Society of India and WBT