A A A A A
Facebook Instagram Twitter
اردو بائبل 2017

لوقا ۲۱



۱
ईसा' ने नज़र उठा कर देखा, कि अमीर लोग अपने हदिए बैत-उल-मुक़द्दस के चन्दे के बक्से में डाल रहे हैं।
۲
एक ग़रीब बेवा भी वहाँ से गुज़री जिस ने उस में ताँबे के दो मामूली से सिक्के डाल दिए।
۳
ईसा' ने कहा, “मैं तुम को सच बताता हूँ कि इस ग़रीब बेवा ने तमाम लोगों की निस्बत ज्यादा डाला है।
۴
क्यूँकि इन सब ने तो अपनी दौलत की कसरत से कुछ डाला जबकि इस ने ज़रूरत मन्द होने के बावजूद भी अपने गुज़ारे के सारे पैसे दे दिए हैं।
۵
उस वक़्त कुछ लोग बैत-उल-मुक़द्दस की तारीफ़ में कहने लगे कि वह कितने ख़ूबसूरत पत्थरों और मिन्नत के तोह्फ़ों से सजी हुई है। यह सुन कर ईसा' ने कहा,
۶
“जो कुछ तुम को यहाँ नज़र आता है उस का पत्थर पर पत्थर नहीं रहेगा। आने वाले दिनों में सब कुछ ढा दिया जाएगा।”
۷
उन्हों ने पूछा, “उस्ताद, यह कब होगा? क्या क्या नज़र आएगा जिस से मालूम हो कि यह अब होने को है?”
۸
ईसा' ने जवाब दिया, “ख़बरदार रहो कि कोई तुम्हें गुमराह न कर दे। क्यूँकि बहुत से लोग मेरा नाम ले कर आएँगे और कहेंगे, ‘मैं ही मसीह हूँ’ और कि ‘वक़्त क़रीब आ चुका है।’ लेकिन उन के पीछे न लगना।
۹
और जब जंगों और फ़ितनों की ख़बरें तुम तक पहुँचेंगी तो मत घबराना। क्यूँकि ज़रूरी है कि यह सब कुछ पहले पेश आए। तो भी अभी आख़िरत न होगी।”
۱۰
उस ने अपनी बात जारी रखी, “एक क़ौम दूसरी के ख़िलाफ़ उठ खड़ी होगी, और एक बादशाही दूसरी के ख़िलाफ़।
۱۱
बहुत ज़ल्ज़ले आएँगे, जगह जगह काल पड़ेंगे और वबाई बीमारियाँ फैल जाएँगी। हैबतनाक वाक़िआत और आस्मान पर बड़े निशान देखने में आएँगे।
۱۲
लेकिन इन तमाम वाक़िआत से पहले लोग तुम को पकड़ कर सताएँगे। वह तुम को यहूदी इबादतख़ानों के हवाले करेंगे, क़ैदख़ानों में डलवाएँगे और बादशाहों और हुक्मरानों के सामने पेश करेंगे। और यह इस लिए होगा कि तुम मेरे पैरोकार हो।
۱۳
नतीजे में तुम्हें मेरी गवाही देने का मौक़ा मिलेगा।
۱۴
लेकिन ठान लो, कि तुम पहले से अपनी फिक्र करने की तैय्यारी न करो,
۱۵
क्यूँकि मैं तुम को ऐसे अल्फ़ाज़ और हिक्मत अता करूँगा, कि तुम्हारे तमाम मुख़ालिफ़ न उस का मुक़ाबला और न उस का जवाब दे सकेंगे।
۱۶
तुम्हारे वालिदैन, भाई, रिश्तेदार और दोस्त भी तुम को दुश्मन के हवाले कर देंगे, बल्कि तुम में से कुछ को क़त्ल किया जाएगा।
۱۷
सब तुम से नफ़रत करेंगे, इस लिए कि तुम मेरे मानने वाले हो।
۱۸
तो भी तुम्हारा एक बाल भी बीका नहीं होगा।
۱۹
साबितक़दम रहने से ही तुम अपनी जान बचा लोगे।
۲۰
जब तुम यरूशलीम को फ़ौजों से घिरा हुआ देखो तो जान लो, कि उस की तबाही क़रीब आ चुकी है।
۲۱
उस वक़्त यहूदिया के रहनेवाले भाग कर पहाड़ी इलाक़े में पनाह लें। शहर के रहने वाले उस से निकल जाएँ और दिहात में आबाद लोग शहर में दाख़िल न हों।
۲۲
क्यूँकि यह इलाही ग़ज़ब के दिन होंगे जिन में वह सब कुछ पूरा हो जाएगा जो कलाम-ए-मुक़द्दस में लिखा है।
۲۳
उन औरतों पर अफ़्सोस जो उन दिनों में हामिला हों या अपने बच्चों को दूध पिलाती हों, क्यूँकि मुल्क में बहुत मुसीबत होगी और इस क़ौम पर खुदा का ग़ज़ब नाज़िल होगा।
۲۴
लोग उन्हें तल्वार से क़त्ल करेंगे और क़ैद करके तमाम ग़ैरयहूदी ममालिक में ले जाएँगे। ग़ैरयहूदी यरूशलीम को पाँवों तले कुचल डालेंगे। यह सिलसिला उस वक़्त तक जारी रहेगा जब तक ग़ैरयहूदियों का दौर पूरा न हो जाए।
۲۵
सूरज, चाँद और तारों में अजीब-ओ-ग़रीब निशान ज़ाहिर होंगे। क़ौमें समुन्दर के शोर और ठाठें मारने से हैरान-ओ-परेशान होंगी।
۲۶
लोग इस अन्देशे से कि क्या क्या मुसीबत दुनिया पर आएगी इस क़दर ख़ौफ़ खाएँगे कि उन की जान में जान न रहेगी, क्यूँकि आस्मान की ताकतें हिलाई जाएँगी।
۲۷
और फिर वह इब्न-ए-आदम को बड़ी क़ुद्रत और जलाल के साथ बादल में आते हुए देखेंगे।
۲۸
चुनाँचे जब यह कुछ पेश आने लगे तो सीधे खड़े हो कर अपनी नज़र उठाओ, क्यूँकि तुम्हारी नजात नज़्दीक होगी।”
۲۹
इस सिलसिले में ईसा' ने उन्हें एक मिसाल सुनाई। “अन्जीर के दरख़्त और बाक़ी दरख़्तों पर ग़ौर करो।
۳۰
जैसे ही कोंपलें निकलने लगती हैं तुम जान लेते हो कि गर्मियों का मौसम नज़्दीक है।
۳۱
इसी तरह जब तुम यह वाक़िआत देखोगे तो जान लोगे कि खुदा की बादशाही क़रीब ही है।
۳۲
मैं तुम को सच बताता हूँ कि इस नस्ल के ख़त्म होने से पहले पहले यह सब कुछ वाक़े होगा।
۳۳
आस्मान-ओ-ज़मीन तो जाते रहेंगे, लेकिन मेरी बातें हमेशा तक क़ायम रहेंगी।
۳۴
ख़बरदार रहो ताकि तुम्हारे दिल अय्याशी, नशाबाज़ी और रोज़ाना की फ़िक़्रों तले दब न जाएँ। वर्ना यह दिन अचानक तुम पर आन पड़ेगा,
۳۵
और फंदे की तरह तुम्हें जकड़ लेगा। क्यूँकि वह दुनिया के तमाम रहनेवालों पर आएगा।
۳۶
हर वक़्त चौकस रहो और दुआ करते रहो कि तुम को आने वाली इन सब बातों से बच निकलने की तौफ़ीक़ मिल जाए और तुम इब्न-ए-आदम के सामने खड़े हो सको।”
۳۷
हर रोज़ ईसा' बैत-उल-मुक़द्दस में तालीम देता रहा और हर शाम वह निकल कर उस पहाड़ पर रात गुज़ारता था जिस का नाम ज़ैतून का पहाड़ है।
۳۸
और सुबह सवेरे सब लोग उस की बातें सुनने को हैकल में उस के पास आया करते थे |











لوقا ۲۱:1

لوقا ۲۱:2

لوقا ۲۱:3

لوقا ۲۱:4

لوقا ۲۱:5

لوقا ۲۱:6

لوقا ۲۱:7

لوقا ۲۱:8

لوقا ۲۱:9

لوقا ۲۱:10

لوقا ۲۱:11

لوقا ۲۱:12

لوقا ۲۱:13

لوقا ۲۱:14

لوقا ۲۱:15

لوقا ۲۱:16

لوقا ۲۱:17

لوقا ۲۱:18

لوقا ۲۱:19

لوقا ۲۱:20

لوقا ۲۱:21

لوقا ۲۱:22

لوقا ۲۱:23

لوقا ۲۱:24

لوقا ۲۱:25

لوقا ۲۱:26

لوقا ۲۱:27

لوقا ۲۱:28

لوقا ۲۱:29

لوقا ۲۱:30

لوقا ۲۱:31

لوقا ۲۱:32

لوقا ۲۱:33

لوقا ۲۱:34

لوقا ۲۱:35

لوقا ۲۱:36

لوقا ۲۱:37

لوقا ۲۱:38







لوقا 1 / لوقا 1

لوقا 2 / لوقا 2

لوقا 3 / لوقا 3

لوقا 4 / لوقا 4

لوقا 5 / لوقا 5

لوقا 6 / لوقا 6

لوقا 7 / لوقا 7

لوقا 8 / لوقا 8

لوقا 9 / لوقا 9

لوقا 10 / لوقا 10

لوقا 11 / لوقا 11

لوقا 12 / لوقا 12

لوقا 13 / لوقا 13

لوقا 14 / لوقا 14

لوقا 15 / لوقا 15

لوقا 16 / لوقا 16

لوقا 17 / لوقا 17

لوقا 18 / لوقا 18

لوقا 19 / لوقا 19

لوقا 20 / لوقا 20

لوقا 21 / لوقا 21

لوقا 22 / لوقا 22

لوقا 23 / لوقا 23

لوقا 24 / لوقا 24