A A A A A
यूहन्‍ना 17
25
“हे धर्ममय न्‍यायी पिता! संसार अहाँ केँ नहि चिन्‍हैत अछि मुदा हम अहाँ केँ चिन्‍हैत छी, और ई सभ आब जनैत छथि जे अहाँ हमरा पठौने छी।
Maithili Bible 2010