A A A A A
بائبل ایک سال میں
فروری ۲۶

مرقس ۵:۲۱-۴۳
۲۱. जब ईसा' फिर नाव में पार आया तो बड़ी भीड़ उसके पास जमा हुई और वो झील के किनारे था।
۲۲. और इबादतख़ाने के सरदारों में से एक शख़्स याईर नाम का आया और उसे देख कर उसके क़दमों में गिरा।
۲۳. और ये कह कर मिन्नत की, “ मेरी छोटी बेटी मरने को है तू आकर अपना हाथ उस पर रख ताकि वो अच्छी हो जाए और ज़िन्दा रहे।”
۲۴. पस वो उसके साथ चला और बहुत से लोग उसके पीछे हो लिए और उस पर गिरे पड़ते थे।
۲۵. फिर एक औरत जिसके बारह बरस से ख़ून जारी था।
۲۶. और कई हकीमो से बड़ी तकलीफ़ उठा चुकी थी, और अपना सब माल खर्च करके भी उसे कुछ फ़ाइदा न हुआ था, बल्कि ज़्यादा बीमार हो गई थी।
۲۷. ईसा' का हाल सुन कर भीड़ में उसके पीछे से आई और उसकी पोशाक को छुआ।
۲۸. “ क्यूँकि वो कहती थी, “ अगर में सिर्फ़ उसकी पोशाक ही छू लूँगी तो अच्छी होजाऊँगी"””
۲۹. और फ़ौरन उसका ख़ून बहना बन्द हो गया और उसने अपने बदन में मा'लूम किया कि मैंने इस बीमारी से शिफ़ा पाई।
۳۰. ईसा' को फ़ौरन अपने में मा'लूम हुआ कि मुझ में से क़ुव्वत निकली उस भीड़ में पीछे मुड़ कर कहा, ''किसने, मेरी पोशाक छुई?’’
۳۱. उसके शागिर्दो ने उससे कहा, ''तू देखता है कि भीड़ तुझ पर गिरी पड़ती है फिर तू कहता है, मुझे किसने छुआ?”
۳۲. उसने चारों तरफ़ निगाह की ताकि जिसने ये काम किया; उसे देखे।
۳۳. वो औरत जो कुछ उससे हुआ था, महसूस करके डरती और काँपती हुई आई और उसके आगे गिर पड़ी और सारा हाल सच सच उससे कह दिया।
۳۴. उसने उससे कहा “बेटी तेरे ईमान से तुझे शिफ़ा मिली; सलामती से जा और अपनी इस बीमारी से बची रह।”
۳۵. “ वो ये कह ही रहा था कि इबादतख़ाने के सरदार के यहाँ से लोगों ने आकर कहा““”तेरी बेटी मर गई अब उस्ताद को क्यूँ तक्लीफ़ देता है?””
۳۶. “ जो बात वो कह रहे थे उस पर ईसा' ने गौर न करके इबादतख़ाने के सरदार से कहा, ““ख़ौफ़ न कर सिर्फ ऐ'तिक़ाद रख।””
۳۷. फिर उसने पतरस और या'क़ूब और या'क़ूब के भाई यूहन्ना के सिवा और किसी को अपने साथ चलने की इजाज़त न दी।
۳۸. और वो इबादतख़ाने के सरदार के घर में आए, और उसने देखा कि शोर हो रहा है और लोग बहुत रो पीट रहे हैं
۳۹. “ और अन्दर जाकर उसने कहा, ““तुम क्यूँ शोर मचाते और रोते हो, लड़की मरी नहीं बल्कि सोती है।””
۴۰. वो उस पर हँसने लगे, लेकिन वो सब को निकाल कर लड़की के माँ बाप को और अपने साथियों को लेकर जहाँ लड़की पड़ी थी अन्दर गया।
۴۱. और लड़की का हाथ पकड़ कर उससे कहा, “तलीता क़ुमी जिसका तर्जुमा, ऐ लड़की! मैं तुझ से कहता हूँ उठ।”
۴۲. वो लड़की फ़ौरन उठ कर चलने फिरने लगी, क्यूंकि वो बारह बरस की थी इस पर लोग बहुत ही हैरान हुए।
۴۳. फिर उसने उनको ताकीद करके हुक्म दिया कि ये कोई न जाने और फ़रमाया; लड़की को कुछ खाने को दिया जाए।