A A A A A
بائبل ایک سال میں
مارچ ۳

مرقس ۸:۱-۲۱
۱. उन दिनों में जब फिर बड़ी भीड़ जमा हुई, और उनके पास कुछ खाने को न था, तो उसने अपने शागिर्दों को पास बुलाकर उनसे कहा।
۲. “मुझे इस भीड़ पर तरस आता है, क्यूँकि ये तीन दिन से बराबर मेरे साथ रही है और इनके पास कुछ खाने को नहीं।
۳. अगर मैं इनको भूखा घर को रुख़्सत करूँ तो रास्ते में थक कर रह जाएँगे और कुछ इन में से दूर के हैं।”
۴. उस के शागिर्दों ने उसे जवाब दिया,“इस वीरान में कहाँ से कोई इतनी रोटियाँ लाए कि इनको खिला सके?”
۵. उसने उनसे पूछा,“तुम्हारे पास कितनी रोटियाँ हैं?” उन्होंने कहा“सात।”
۶. “ फिर उसने लोगों को हुक्म दिया, “कि ज़मीन पर बैठ जाएँ”” उसने वो सात रोटियाँ लीं और शुक्र करके तोड़ीं और अपने शागिर्दों को देता गया कि उनके आगे रख्खें और उन्होंने लोगों के आगे रख दीं। “
۷. उनके पास थोड़ी सी छोटी मछलियाँ भी थीं उसने उन पर बरकत देकर कहा कि ये भी उनके आगे रख दो।
۸. पस वो खा कर सेर हुए और बचे हुए टुकड़ों के सात टोकरे उठाए।
۹. और वो लोग चार हज़ार के क़रीब थे, फिर उसने उनको रुख़्सत किया।
۱۰. वो फ़ौरन अपने शागिर्दों के साथ नाव में बैठ कर दलमनूता के इलाक़े में गया।
۱۱. फिर फ़रीसी निकल कर उस से बहस करने लगे, और उसे आज़माने के लिए उससे कोई आसमानी निशान तलब किया।
۱۲. उसने अपनी रूह में आह खीच कर कहा,” इस ज़माने के लोग क्यूँ निशान तलब करते हैं? मै तुम से सच कहता हूँ, कि इस ज़माने के लोगों को कोई निशान न दिया जाएगा। ”
۱۳. और वो उनको छोड़ कर फिर नाव में बैठा और पार चला गया।
۱۴. वो रोटी लेना भूल गए थे, और नाव में उनके पास एक से ज़्यादा रोटी न थी।
۱۵. और उसने उनको ये हुक्म दिया;“ख़बरदार, फ़रीसियों के तालीम और हेरोदेस की तालीम से होश्यार रहना।”
۱۶. वो आपस में चर्चा करने और कहने लगे,“हमारे पास रोटियाँ नहीं।”
۱۷. मगर ईसा' ने ये मा'लूम करके कहा,“तुम क्यूँ ये चर्चा करते हो कि हमारे पास रोटी नहीं? क्या अब तक नहीं जानते, और नहीं समझते हो? क्या तुम्हारा दिल सख़्त हो गया है?
۱۸. आखें हैं और तुम देखते नहीं कान हैं और सुनते नहीं और क्या तुम को याद नहीं।
۱۹. जिस वक़्त मैने वो पाँच रोटियाँ पाँच हज़ार के लिए तोड़ीं तो तुम ने कितनी टोकरियाँ टुकड़ों से भरी हुई उठाईं?” उन्हों ने उस से कहा “बारह”।
۲۰. “और जिस वक़्त सात रोटियाँ चार हज़ार के लिए तोड़ीं तो तुम ने कितने टोकरे टूकड़ों से भरे हुए उठाए?” उन्हों ने उस से कहा “सात।”
۲۱. उस ने उनसे कहा “क्या तुम अब तक नहीं समझते?”