A A A A A
بائبل ایک سال میں
مارچ ۸

مرقس ۱۰:۳۲-۵۲
۳۲. और वो यरूशलीम को जाते हुए रास्ते में थे और ईसा' उनके आगे जा रहा था वो हैरान होने लगे और जो पीछे पीछे चलते थे डरने लगे पस वो फिर उन बारह को साथ लेकर उनको वो बातें बताने लगा जो उस पर आने वाली थीं।
۳۳. देखो हम यरूशलीम को जाते हैं “और इब्ने आदम सरदार काहिनों फ़क़ीहों के हवाले किया जाएगा और वो उसके क़त्ल का हुक्म देंगे और उसे ग़ैर क़ौमों के हवाले करेंगे।
۳۴. और वो उसे ठटठो में उड़ाएँगे और उस पर थूकेंगे और उसे कोड़े मारेंगे और क़त्ल करेंगे और वो तीन दिन के बा'द जी उठेगा।
۳۵. तब ज़ब्दी के बेटों या'क़ूब और यूहन्ना ने उसके पास आकर उससे कहा“ऐ उस्ताद हम चाहते हैं कि जिस बात की हम तुझ से दरक़्वास्त करें”तू हमारे लिए करे।
۳۶. उसने उनसे कहा तुम क्या चाहते हो“कि मैं तुम्हारे लिए करूँ?”
۳۷. उन्होंने उससे कहा“हमारे लिए ये कर कि तेरे जलाल में हम में से एक तेरी दाहिनी और एक बाईं तरफ़ बैठे।”
۳۸. ईसा' ने उनसे कहा “तुम नहीं जानते कि क्या माँगते हो? जो प्याला में पीने को हूँ क्या तुम पी सकते हो? और जो बपतिस्मा में लेने को हूँ तुम ले सकते हो?”
۳۹. उन्होंने उससे कहा“हम से हो सकता है ”ईसा' ने उनसे कहा “जो प्याला में पीने को हूँ तुम पियोगे? और जो बपतिस्मा में लेने को हूँ तुम लोगे।
۴۰. लेकिन अपनी दहनी या बाईं तरफ़ किसी को बिठा देना मेरा काम नहीं मगर जिन के लिए तैयार किया गया उन्ही के लिए है।”
۴۱. जब उन दसों ने ये सुना तो या'क़ूब और यूहन्ना से ख़फ़ा होने लगे।
۴۲. ईसा' ने उन्हें पास बुलाकर उनसे कहा “तुम जानते हो कि जो ग़ैर क़ौमों के सरदार समझे जाते हैं वो उन पर हुकूमत चलाते है और उनके अमीर उन पर इख़्तियार जताते हैं।
۴۳. मगर तुम में ऐसा कौन है बल्कि जो तुम में बड़ा होना चाहता है वो तुम्हारा ख़ादिम बने।
۴۴. और जो तुम में अव्वल होना चाहता है वो सब का गुलाम बने।
۴۵. क्यूँकि इब्ने आदम भी इसलिए नहीं आया कि ख़िदमत ले बल्कि इसलिए कि ख़िदमत करे और अपनी जान बहुतेरों के बदले फ़िदिये में दे।”
۴۶. और वो यरीहू में आए और जब वो और उसके शागिर्द और एक बड़ी भीड़ यरीहू से निकलती थी तो तिमाई का बेटा बरतिमाई अँधा फ़क़ीर रास्ते के किनारे बैठा हुआ था।
۴۷. और ये सुनकर कि ईसा' नासरी है चिल्ला चिल्लाकर कहने लगा ऐ इब्ने दाऊद ऐ ईसा' मुझ पर रहम कर।”
۴۸. और बहुतों ने उसे डाँटा कि चुप रह“मगर वो और ज़्यादा चिल्लाया”ऐ इब्ने दाऊद“मुझ पर रहम कर!”
۴۹. ईसा' ने खड़े होकर कहा “उसे बुलाओ।”पस उन्हों ने उस अँधे को ये कह कर बुलाया “कि इत्मिनान रख। उठ, वो तुझे बुलाता है।”
۵۰. वो अपना कपड़ा फेंक कर उछल पड़ा और ईसा' के पास आया।
۵۱. “ ईसा' ने उस से कहा“तू क्या चाहता है कि मैं तेरे लिए करूँ?”अँधे ने उससे कहा,“ऐ रब्बूनी”” ये कि मैं देखने लगूं ।””
۵۲. ईसा' ने उस से कहा जा तेरे ईमान ने तुझे अच्छा कर दिया“और वो फ़ौरन देखने लगा ”और रास्ते में उसके पीछे हो लिया