A A A A A
एक साल में बाइबल
जुलाई 27

मसीह-दूत 27:1-26
1. जखन ई निश्‍चय भऽ गेल जे हम सभ पानि जहाज सँ इटली देश जायब तँ पौलुस और दोसरो बन्‍दी सभ केँ सम्राटक सैन्‍यदलक कप्‍तान यूलियुसक जिम्‍मा मे लगा देल गेलनि।
2. हम सभ अद्रमुतियुम नगरक एक जहाज जे आसिया प्रदेशक समुद्रक कछेर पर पड़ऽ वला शहर सभ होइत जाय वला छल, ताहि पर चढ़ि कऽ विदा भेलहुँ। हमरा सभक संग मकिदुनिया प्रदेशक थिसलुनिका नगरक निवासी अरिस्‍तर्खुस सेहो छलाह।
3. दोसर दिन सीदोन नगर मे पहुँचलहुँ। ओतऽ यूलियुस पौलुस पर दया कऽ कऽ हुनका संगी-साथी सभक ओहिठाम जा कऽ अपन आवश्‍यकताक वस्‍तु स्‍वीकार करबाक अनुमति देलथिन।
4. ओतऽ सँ ओही जहाज सँ फेर विदा भेलहुँ, और हवा विपरीत दिस सँ रहबाक कारणेँ हम सभ साइप्रस द्वीपक अऽढ़ मे चललहुँ।
5. तखन किलिकिया और पंफूलिया प्रदेशक सामनेक समुद्री भाग दऽ कऽ आगाँ बढ़ि लुकिया प्रदेशक मूरा नामक स्‍थान पर पहुँचलहुँ।
6. ओतऽ कप्‍तान केँ सिकन्‍दरिया नगरक एक जहाज भेटलनि जे इटली देश जा रहल छल। ओ हमरा सभ केँ ओहि पर चढ़ा देलनि।
7. कतेक दिन धरि धिरे-धिरे आगाँ बढ़ैत अन्‍त मे बहुत कठिनाइ सँ हम सभ कनिदुस नगर लग पहुँचलहुँ। हवा हमरा सभ केँ ओहि दिस आरो आगाँ बढ़ऽ नहि दऽ रहल छल आ तेँ हम सभ सलमोन नगर लग क्रेत द्वीपक अऽढ़ मे चल गेलहुँ।
8. द्वीपक काते-काते बहुत कठिनाइ सँ आगाँ बढ़ैत हम सभ “असल शरण” नामक स्‍थान पर पहुँचलहुँ, जे लसिया नगर लग अछि।
9. एहि तरहेँ बहुत समय बिति गेल छल। प्रायश्‍चित्त-दिवसक उपास सेहो बिति गेल छल, और जल-यात्रा करब आब खतरनाक छल। तेँ पौलुस लोक सभ केँ ई चेतावनी देलथिन जे,
10. “यौ मित्र लोकनि! हम देखैत छी जे एहि यात्रा मे एखन आगाँ बढ़ला सँ बहुत भारी खतरा होयत। मात्र जहाज आ माल-सामानक नहि, बल्‍कि अपना सभ केँ अपन प्राणोक हानि उठाबऽ पड़त।”
11. मुदा सेनाक कप्‍तान पौलुसक सल्‍लाह नहि मानि कऽ जहाजक कप्‍तान आ मालिकक बात मानलनि।
12. एहि स्‍थान पर जाड़ मास बितयबाक लेल जहाज ठाढ़ करबाक उपयुक्‍त जगह नहि छल, आ तेँ अधिकांश लोक एहि आशा मे आगाँ बढ़ऽ चाहैत छल जे कोहुना कऽ फीनिक्‍स नगर तक पहुँचि जाइ और ओतहि जाड़ मास बिताबी। फीनिक्‍स क्रेत द्वीपक एक बन्‍दरगाह अछि जकर मुँह दक्षिण-पश्‍चिम आ उत्तर-पश्‍चिमक दिस अछि।
13. जखन दक्षिण सँ हवा सिहकऽ लागल तँ ई सोचि जे हमरा सभक उद्देश्‍य पूरा भऽ गेल, नाविक सभ लंगर खोललक आ क्रेत द्वीपक काते-काते बढ़ऽ लागल।
14. मुदा कनेके कालक बाद द्वीपक दिस सँ भयंकर अन्‍हड़-बिहारि उठल जे “उत्तरबरिया-पुबरिया” कहबैत अछि।
15. जहाज अन्‍हड़-बिहारि मे तेना ने फँसि गेल जे नाविक सभ जेम्‍हर सँ अन्‍हड़-बिहारि आबि रहल छल जहाज केँ तेम्‍हर मोड़ऽ सँ असमर्थ भऽ गेल। तेँ हम सभ अपना केँ हवाक रुखि पर छोड़ि देलहुँ जे जतऽ लऽ जाय।
16. कौदा नामक छोट द्वीपक अऽढ़ मे पहुँचला पर हम सभ बहुत कठिनाइ सँ जहाजक पाछाँ बान्‍हल छोट नाव केँ अपना वश मे कऽ सकलहुँ।
17. ओकरा जहाज पर लऽ लेलाक बाद नाविक सभ जहाज केँ मजगूत बनयबाक उद्देश्‍य सँ जहाज केँ नीचाँ-ऊपर रस्‍सी लपेटि कऽ बन्‍हलक। तकरबाद, एहि डरेँ जे जहाज कहीं सुरतिस नामक बालु वला क्षेत्र मे ने धँसि जाय, ओ सभ पाल उतारि कऽ जहाज केँ ओहिना हवा मे दहाय देलक।
18. अन्‍हड़-बिहारि हमरा सभ केँ ततेक झकझोड़ि रहल छल जे प्रात भेने ओ सभ जहाज परक माल-सामान समुद्र मे फेकऽ लागल।
19. तेसर दिन ओ सभ अपने हाथ सँ जहाजक रस्‍सी-पाल इत्‍यादि फेकि देलक।
20. बहुतो दिन तक जखन सूर्य आ तारा सभ देखाइ नहि देलक और अन्‍हड़-बिहारि चलिते रहल तँ हमरा सभ केँ बचबाक कोनो आशा नहि रहि गेल।
21. जहाज परक लोक सभ बहुतो दिन सँ भोजन नहि कऽ रहल छल। तखन सभक बीच ठाढ़ भऽ कऽ पौलुस कहलथिन, “मित्र लोकनि! उचित तँ ई छल जे अहाँ सभ हमर सल्‍लाह मानि कऽ क्रेत द्वीप सँ विदाए नहि भेल रहितहुँ। तखन ने ई विपत्ति अबैत आ ने ई हानि उठाबऽ पड़ैत।
22. मुदा एखनो हम अहाँ सभ सँ आग्रह करैत छी जे, साहस राखू, कारण ककरो प्राणक हानि नहि उठाबऽ पड़त, मात्र जहाज नष्‍ट भऽ जायत।
23. आइए राति मे, परमेश्‍वर, जिनकर हम छियनि आ जिनकर सेवा करैत छी, तिनकर स्‍वर्गदूत हमरा लग ठाढ़ भऽ कऽ कहलनि जे,
24. ‘हौ पौलुस, डेराह नहि! तोँ सम्राटक समक्ष अवश्‍य ठाढ़ होयबह। और परमेश्‍वर तोरा पर दया कऽ कऽ, तकरा सभ केँ सुरक्षित रखथुन जे सभ तोरा संग यात्रा कऽ रहल छह।’
25. तेँ अहाँ सभ साहस राखू! कारण, हमरा परमेश्‍वर पर पूरा विश्‍वास अछि जे जेना हमरा कहल गेल अछि तेना हयबो करत।
26. मुदा अपना सभक जहाज कोनो द्वीप पर भसिया जायत।”