A A A A A
एक साल में बाइबल
जून 25

मसीह-दूत 7:22-43
22. एहि तरहेँ मूसा मिस्र देशक सम्‍पूर्ण शिक्षा प्राप्‍त कयलनि और ओ बात आ काज दूनू मे सामर्थी भेलाह।
23. “मूसा जखन चालिस वर्षक भेलाह तखन हुनका मोन भेलनि जे हम अपन जाति-भाय इस्राएली सभ सँ भेँट-घाँट करी।
24. एक दिन ओ देखलनि जे एक मिस्री लोक हुनकर जाति-भायक संग दुर्व्‍यवहार कऽ रहल अछि, तेँ ओ अपन भायक पक्ष लैत ओहि मिस्री लोकक खून कऽ कऽ तकर बदला लऽ लेलनि।
25. ओ सोचैत छलाह जे हमर जाति-भाय सभ ई बात बुझि जायत जे परमेश्‍वर हमरा द्वारा ओकरा सभ केँ मुक्‍त करौताह मुदा ओ सभ एहि बात केँ नहि बुझलक।
26. प्रात भेने जखन ओ फेर बहरयलाह तँ दू इस्राएली भाय केँ अपने मे लड़ाइ करैत देखलनि। ओ ओकरा सभ केँ मेल-मिलाप कऽ लेबाक लेल बुझौलथिन, ‘सुनू, अहाँ सभ भाय-भाय छी तखन एक-दोसर केँ किएक कष्‍ट दैत छी?’
27. एहि बात पर ओ जे दोषी छल से मूसा केँ धकिया कऽ कहलकनि, ‘अहाँ केँ के हमरा सभक हाकिम और न्‍यायाधीश बनौलक?
28. की जहिना अहाँ काल्‍हि ओहि मिस्री लोकक खून कयलहुँ तहिना हमरो खून कऽ देबऽ चाहैत छी?’
29. मूसा ई बात सुनि मिस्र देश सँ भागि कऽ मिद्यान देश मे परदेशी भऽ कऽ रहऽ लगलाह और ओतहि हुनकर दूटा बेटाक जन्‍म भेलनि।
30. “चालिस वर्षक बाद सीनय पहाड़ लग निर्जन क्षेत्र मे जरैत झाड़ीक धधरा मे एक स्‍वर्गदूत मूसा केँ देखाइ देलनि।
31. ई देखि हुनका बड्ड आश्‍चर्य लगलनि। एहि दृश्‍य केँ लग सँ देखबाक लेल जखन गेलाह तँ प्रभु हुनका कहलथिन,
32. ‘हम तोहर पूर्वजक परमेश्‍वर, अर्थात् अब्राहम, इसहाक और याकूबक परमेश्‍वर छी।’ मूसा थर-थर काँपऽ लगलाह और हुनका ओम्‍हर देखैत रहबाक साहस नहि भेलनि।
33. तखन प्रभु कहलथिन, ‘तोँ अपन चप्‍पल बाहर कऽ लैह, कारण जतऽ तोँ ठाढ़ छह से पवित्र स्‍थान अछि।
34. हम देखलहुँ जे मिस्र मे हमरा लोक केँ कोना सताओल जा रहल अछि, हम ओकरा सभक कुहरनाइ सुनलहुँ आ ओकरा सभ केँ मुक्‍त करयबाक लेल उतरि आयल छी। आब आबह! हम तोरा मिस्र देश मे पठा रहल छिअह।’
35. “ई वैह मूसा छथि जिनका ओ सभ ई कहि कऽ अस्‍वीकार कयने छलनि जे, अहाँ केँ के हाकिम आ न्‍यायाधीश बनौलक? हुनका परमेश्‍वर ओहि स्‍वर्गदूत द्वारा जे हुनका झाड़ी मे देखाइ देने छलनि हाकिम और मुक्‍त करौनिहार बना कऽ पठौलथिन।
36. वैह आदमी मिस्र मे, लाल सागर मे आ चालिस वर्ष धरि निर्जन क्षेत्र मे चमत्‍कारपूर्ण काज आ चिन्‍ह सभ देखबैत अपन इस्राएली लोक केँ मिस्र सँ बाहर निकालि अनलनि।
37. ई वैह मूसा छथि जे ओकरा सभ केँ कहलथिन, ‘परमेश्‍वर तोरे सभ मे सँ हमरा सनक प्रवक्‍ता तोरा सभक लेल पठौथुन।’
38. हँ, ई वैह छथि जे निर्जन क्षेत्र मे अपना सभक पूर्वजक समुदाय मे छलाह आ जिनका सँ सीनय पहाड़ पर स्‍वर्गदूत बात कयलनि। हुनके जीवनक वचन देल गेलनि जे ओ अपना सभ केँ प्रदान करथि।
39. “मुदा अपना सभक पूर्वज सभ हुनकर बात नहि मानलनि, बल्‍कि हुनका अस्‍वीकार कयलथिन आ फेर मिस्र देश घूमि जयबाक इच्‍छा करैत छलाह।
40. ओ सभ हारून केँ कहलथिन, ‘अहाँ हमरा सभक लेल एहन देवता बना दिअ जे हमरा सभक मार्गदर्शन करथि, कारण ई मूसा जे हमरा सभ केँ मिस्र देश सँ निकालि कऽ अनलनि तिनका नहि जानि की भऽ गेलनि!’
41. ओही समय मे ओ सभ एक बच्‍छाक मुरुत बना कऽ ओकरा लग बलि-प्रदान कयलनि। ओ सभ अपन हाथक बनाओल मुरुतक लेल एक पैघ उत्‍सव मनौलनि।
42. एहि पर परमेश्‍वर हुनका सभ केँ त्‍यागि देलथिन और आकाशक सूर्य, चन्‍द्रमा आ तारा सभक पूजा करबाक लेल छोड़ि देलथिन। एही सम्‍बन्‍ध मे परमेश्‍वरक प्रवक्‍ता सभक लेख मे लिखल अछि, ‘हे इस्राएली लोक सभ, की तोँ सभ निर्जन क्षेत्र मे चालिस वर्ष धरि पशु-बलि आ अन्‍य चढ़ौना सभ हमरे चढ़ौलह?
43. नहि, तोँ सभ मोलोक देवताक मण्‍डप केँ और रिफान देवताक तारा सभ केँ अर्थात् मुरुत सभ केँ जकरा तोँ सभ पूजा करबाक लेल बनौने छलह तकरा सभ केँ अपना संग लऽ कऽ घुमैत छलह। तेँ आब हम तोरा सभ केँ बेबिलोनो सँ दूर देश मे भगा देबह।’