A A A A A
एक साल में बाइबल
अप्रैल 8

लूका 9:18-36
18. एक बेर यीशु एकान्‍त मे प्रार्थना कऽ रहल छलाह आ हुनकर शिष्‍य सभ हुनका संग छलनि, तँ ओ हुनका सभ सँ पुछलथिन जे, “हम के छी, ताहि सम्‍बन्‍ध मे लोक की कहि रहल अछि?”
19. ओ सभ उत्तर देलथिन, “किछु लोक सभ ‘बपतिस्‍मा देनिहार यूहन्‍ना’ कहैत अछि, किछु लोक ‘एलियाह’ आ किछु लोक सभ कहैत अछि जे प्राचीन कालक परमेश्‍वरक प्रवक्‍ता लोकनि मे सँ केओ जीबि उठलाह अछि।”
20. ओ पुछलथिन, “और अहाँ सभ?—अहाँ सभ की कहैत छी जे हम के छी?” पत्रुस उत्तर देलथिन, “अहाँ परमेश्‍वरक पठाओल उद्धारकर्ता-मसीह छी।”
21. एहि पर यीशु हुनका सभ केँ दृढ़तापूर्बक आदेश देलथिन जे, “ई बात ककरो नहि कहिऔक।”
22. फेर आगाँ कहऽ लगलथिन, “ई आवश्‍यक अछि जे मनुष्‍य-पुत्र बहुत दुःख सहय, बूढ़-प्रतिष्‍ठित, मुख्‍यपुरोहित आ धर्मशिक्षक सभ द्वारा तुच्‍छ ठहराओल जाय, जान सँ मारल जाय आ तेसर दिन जिआओल जाय।”
23. तखन यीशु सभ केँ कहलथिन, “जँ केओ हमर शिष्‍य बनऽ चाहैत अछि तँ ओ अपना केँ त्‍यागि, प्रतिदिन हमरा कारणेँ दुःख उठयबाक आ प्राणो देबाक लेल तैयार रहओ, और हमरा पाछाँ चलओ।
24. कारण, जे केओ अपन जीवन बचाबऽ चाहैत अछि, से ओकरा गमाओत, और जे केओ हमरा लेल अपन जीवन गमबैत अछि, से ओकरा बचाओत।
25. जँ कोनो मनुष्‍य सम्‍पूर्ण संसार केँ पाबि लय मुदा अपना केँ गमा लय वा नष्‍ट कऽ लय तँ ओकरा की लाभ भेलैक?
26. जँ केओ हमरा और हमर शिक्षा सँ लजाइत अछि, तँ ओकरो सँ मनुष्‍य-पुत्र ओहि समय मे लजायत जखन ओ अपना महिमाक संग आ पिताक और पवित्र स्‍वर्गदूत सभक महिमाक संग आओत।
27. और हम अहाँ सभ केँ सत्‍य कहैत छी जे एतऽ किछु एहनो लोक सभ ठाढ़ अछि जे जाबत तक परमेश्‍वरक राज्‍य नहि देखि लेत ताबत तक नहि मरत।”
28. एहि बात सभक करीब आठ दिनक बाद यीशु अपना संग पत्रुस, यूहन्‍ना और याकूब केँ लऽ कऽ प्रार्थना करबाक लेल पहाड़ पर गेलाह।
29. जखन ओ प्रार्थना कऽ रहल छलाह तँ हुनकर मुँहक रूप बदलि गेलनि, और हुनकर वस्‍त्र बिजलोका जकाँ चमकऽ लगलनि।
30. एकाएक दू पुरुष, मूसा और एलियाह,
31. स्‍वर्गिक इजोत सँ चमकैत और यीशु सँ बात करैत देखाइ देलनि। ओ सभ हुनकर मृत्‍युक सम्‍बन्‍ध मे बात कऽ रहल छलाह, जकरा द्वारा ओ यरूशलेम मे परमेश्‍वरक इच्‍छा पूरा करऽ वला छलाह।
32. पत्रुस और हुनकर संगी सभ औँघाय लागल छलाह, मुदा जखन पूर्ण रूप सँ सचेत भेलाह तँ यीशुक स्‍वर्गिक सुन्‍दरता और हुनका संग ठाढ़ ओहि दूनू पुरुष केँ देखलथिन।
33. जखन ओ दूनू पुरुष यीशु लग सँ विदा होमऽ लगलाह तँ पत्रुस यीशु केँ कहलथिन, “गुरुजी! हमरा सभक लेल ई कतेक नीक बात अछि जे हम सभ एतऽ छी! हम सभ एतऽ तीन मण्‍डप बनाबी—एक अहाँक लेल, एक मूसाक लेल, और एक एलियाहक लेल।” ओ अपनो नहि जनैत छलाह जे हम की बाजि रहल छी।
34. ओ ई बात बाजिए रहल छलाह कि एकटा मेघ आबि कऽ हुनका सभ केँ झाँपि देलकनि। शिष्‍य सभ मेघ सँ झँपा कऽ डेरा गेलाह।
35. तखन मेघ मे सँ ई आवाज आयल, “ई हमर पुत्र छथि, जिनका हम चुनने छी। हिनका बात पर ध्‍यान दिअ!”
36. ई आकाशवाणी भेलाक बाद शिष्‍य सभ देखलनि जे यीशु असगर छथि। एहि घटनाक सम्‍बन्‍ध मे ओ सभ चुप रहलाह और जे किछु देखने छलाह तकर चर्चा ओहि समय मे ककरो सँ नहि कयलनि।