A A A A A
एक साल में बाइबल
मार्च 9

मरकुस 11:1-19
1. यीशु आ हुनकर शिष्‍य सभ जखन यरूशलेम लग पहुँचलाह, अर्थात्‌ जैतून पहाड़ पर बेतफगे और बेतनिया गाम सभ लग, तखन यीशु दूटा शिष्‍य केँ ई कहि कऽ पठौलथिन जे,
2. “सामने मे जे गाम अछि, ताहि मे जाउ। जखने अहाँ सभ गाम मे प्रवेश करब तखन गदहीक एक बच्‍चा बान्‍हल भेटत जाहि पर केओ कहियो नहि चढ़ल अछि। ओकरा खोलि कऽ आनू।
3. जँ केओ पुछत जे ‘एकरा किएक खोलैत छी?’ तँ कहबैक जे, ‘प्रभु केँ एकर आवश्‍यकता छनि और एकरा तुरत फेर लौटा देताह।’ ”
4. दूनू चल गेलाह, और हुनका सभ केँ सड़कक कात मे एक घरक द्वारि लग बान्‍हल एक गदहीक बच्‍चा भेटलनि। जखने ओ सभ ओकरा खोलऽ लगलाह
5. तँ ओहिठाम ठाढ़ भेल किछु लोक सभ हुनका सभ केँ पुछलकनि जे, “अहाँ सभ की करैत छी? ई गदहा किएक खोलि रहल छी?”
6. ओ सभ वैह उत्तर देलनि जे यीशु कहने छलथिन, और लोक सभ हुनका सभ केँ जाय देलकनि।
7. गदहीक बच्‍चा केँ ओ सभ यीशु लग अनलनि और ओकरा पीठ पर अपन कपड़ा राखि देलनि। यीशु ओहि पर बैसि गेलाह।
8. बहुत लोक रस्‍ता मे अपन चादर ओछा देलक, दोसर लोक खेत मे सँ पात वला ठाढ़ि तोड़ि कऽ सड़क पर ओछौलक।
9. यीशुक आगाँ-पाछाँ चलऽ वला लोकक भीड़ एहि तरहेँ जयजयकार करऽ लागल जे, “जय! जय! धन्‍य छथि ओ जे प्रभुक नाम सँ अबैत छथि!
10. हमरा सभक पुरखा दाऊदक आबऽ वला राज्‍य केँ जय! सर्वोच्‍च स्‍वर्ग मे प्रभुक जयजयकार!”
11. यीशु यरूशलेम पहुँचि कऽ मन्‍दिर मे गेलाह। ओहिठाम चारू दिस नजरि दौड़ा कऽ सभ किछु देखलनि मुदा साँझ पड़ि जयबाक कारणेँ ओतऽ सँ बाहर गेलाह आ बारहो शिष्‍यक संग बेतनिया चल गेलाह।
12. दोसर दिन जखन ओ सभ बेतनिया सँ अबैत छलाह तखन यीशु केँ भूख लागल छलनि।
13. दूर सँ ओ हरियर पात सँ भरल एक अंजीरक गाछ देखि कऽ गाछ लग गेलाह जे शायद ओहि पर किछु फल भेटय। मुदा ओतऽ पहुँचला पर पात छोड़ि आरो किछु नहि भेटलनि, किएक तँ अंजीरक फलक समय नहि छल।
14. यीशु ओहि गाछ केँ कहलथिन, “आइ सँ तोहर फल केओ कहियो नहि खयतौ!” शिष्‍य सभ हुनका ई कहैत सुनलनि।
15. तखन ओ सभ यरूशलेम पहुँचलाह। मन्‍दिर मे जा कऽ यीशु बेचऽ वला और किनऽ वला सभ केँ ओतऽ सँ बाहर भगाबऽ लगलाह। ओ पाइ भजौनिहार सभक टेबुल आ परबा-पेउरकी बेचनिहार सभक पीढ़ी-बैसकी सभ केँ उनटा-पुनटा देलथिन।
16. ककरो मन्‍दिर दऽ कऽ कोनो सामान लऽ कऽ नहि जाय देलथिन।
17. लोक केँ शिक्षा देबऽ लगलथिन जे, “की धर्मशास्‍त्र मे नहि लिखल अछि जे, ‘हमर घर सभ जातिक लेल प्रार्थनाक घर कहाओत’? मुदा तोँ सभ एकरा ‘चोर-डाकूक अड्डा’ बना देने छह।”
18. मुख्‍यपुरोहित और धर्मशिक्षक सभ ई बात सुनि कऽ यीशु केँ कोना मारल जाय तकर उपाय सोचऽ लगलाह, एहि द्वारे जे हुनका सँ डेराइत छलाह किएक तँ पूरा जनता हुनकर शिक्षाक कारणेँ आश्‍चर्यित छल।
19. सूर्यास्‍‍तक बाद यीशु और शिष्‍य सभ शहर सँ बाहर चल गेलाह।