A A A A A
एक साल में बाइबल
मार्च 16

मरकुस 14:27-54
27. तखन यीशु हुनका सभ केँ कहलथिन, “अहाँ सभ गोटे अपना विश्‍वास मे डगमगायब, किएक तँ धर्मशास्‍त्र मे लिखल अछि जे परमेश्‍वर कहने छथि, ‘हम चरबाह केँ मारि देबैक, और भेँड़ा सभ छिड़िया जायत।’
28. मुदा मृत्‍यु सँ फेर जीवित भऽ गेलाक बाद हम अहाँ सभ सँ पहिने गलील प्रदेश जायब।”
29. एहि पर पत्रुस हुनका कहलथिन, “चाहे सभ केओ विश्‍वास मे डगमगायत, मुदा हम नहि डगमगायब!”
30. यीशु हुनका कहलथिन, “हम अहाँ केँ सत्‍य कहैत छी जे, आइए राति मे, अहाँ हमरा अस्‍वीकार करब। मुर्गा केँ दू बेर बाजऽ सँ पहिने अहाँ तीन बेर लोक केँ कहबैक जे, हम ओकरा चिन्‍हबो नहि करैत छिऐक।”
31. मुदा पत्रुस आरो जोर सँ कहलथिन जे, “हमरा जँ अहाँक संग मरहो पड़त तैयो हम किन्‍नहुँ नहि अहाँ केँ अस्‍वीकार करब।” आरो सभ शिष्‍य सेहो यैह बात कहलथिन।
32. ओ सभ गतसमनी नामक एक जगह पर गेलाह। यीशु अपना शिष्‍य सभ केँ कहलथिन, “जाबत हम प्रार्थना करैत छी, ताबत अहाँ सभ एहिठाम बैसल रहू।”
33. ओ पत्रुस, याकूब और यूहन्‍ना केँ अपना संग लऽ गेलाह। ओ मानसिक वेदना सँ व्‍याकुल होमऽ लगलाह,
34. आ हुनका सभ केँ कहलथिन, “हमर मोन व्‍यथा सँ एतेक व्‍याकुल अछि—मानू जे हम दुःख सँ मरऽ पर छी। अहाँ सभ एहिठाम रहि कऽ जागल रहू।”
35. एतेक कहि ओ कनेक आगाँ जा मुँह भरे खसि कऽ प्रार्थना कयलनि जे, सम्‍भव होअय तँ ई दुःखक समय हमरा लग सँ दूर भऽ जाय।
36. ओ प्रार्थना करैत कहलनि जे, “हे बाबूजी! हे पिता! अहाँ तँ सभ किछु कऽ सकैत छी—ई दुःखक बाटी हमरा सँ हटा लिअ, मुदा तैयो हमर इच्‍छा नहि, अहींक इच्‍छा पूरा होअय।”
37. तकरबाद अपन शिष्‍य सभ लग आबि कऽ हुनका सभ केँ सुतल देखलथिन। ओ पत्रुस केँ कहलथिन, “सिमोन! सुतल छी की? की एको घण्‍टा जागल रहितहुँ से अहाँ केँ पार नहि लागल?
38. परीक्षा मे नहि पड़ि जाउ ताहि लेल अहाँ सभ जागल रहू आ प्रार्थना करैत रहू। आत्‍मा तँ तैयार अछि मुदा शरीर कमजोर।”
39. यीशु फेर जा कऽ पहिने जकाँ प्रार्थना कयलनि।
40. ओ जखन प्रार्थना कऽ कऽ शिष्‍य सभ लग अयलाह तँ ओ सभ फेर सुतल छलाह। हुनकर सभक आँखि नीन सँ भारी भऽ गेल छलनि। आब यीशु केँ की जबाब दिऔन से हिनका सभ केँ किछु नहि फुरयलनि।
41. यीशु फेर तेसर बेर हुनका सभ लग अयलाह और कहलथिन, “एखनो तक सुतिए रहल छी आ आरामे कऽ रहल छी? आब भऽ गेल! समय आबि गेल—देखू आब मनुष्‍य-पुत्र पापी सभक हाथ मे पकड़बाओल जा रहल अछि।
42. उठू-उठू! चलू! देखू, हमरा पकड़बाबऽ वला आबि गेल अछि!”
43. यीशु ई कहिए रहल छलाह कि यहूदा, जे बारह शिष्‍य मे सँ एक छल, पहुँचि गेल। ओकरा संग लोकक भीड़ छलैक, और सभक हाथ मे तरुआरि और लाठी छल। ओकरा सभ केँ मुख्‍यपुरोहित, धर्मशिक्षक, और बूढ़-प्रतिष्‍ठित लोकनि पठौने छलाह।
44. यीशु केँ पकड़बाबऽ वला ओकरा सभ केँ ई संकेत देने छलैक जे, “हम जकरा चुम्‍मा लेब, वैह होयत—अहाँ सभ ओकरे पकड़ू आ घेरि कऽ पहरा मे लऽ जायब।”
45. यहूदा तुरत यीशुक लग मे जा कऽ कहलकनि, “गुरुजी!” आ हुनका चुम्‍मा लेलकनि।
46. ओ सभ हुनका तुरत पकड़ि कऽ बन्‍दी बना लेलकनि।
47. ओहि ठाम ठाढ़ एक आदमी तरुआरि निकालि कऽ महापुरोहितक टहलू पर चला कऽ ओकर एकटा कान उड़ा देलनि।
48. यीशु ओकरा सभ केँ कहलथिन, “की अहाँ सभ हमरा विद्रोह मचाबऽ वला बुझि कऽ, लाठी और तरुआरि लऽ कऽ पकड़ऽ अयलहुँ?
49. सभ दिन हम मन्‍दिर मे शिक्षा दैत अहाँ सभक संग छलहुँ, ततऽ अहाँ सभ हमरा नहि पकड़लहुँ। मुदा ई सभ एना एहि लेल भेल जे धर्मशास्‍त्र मे लिखल बात पूरा होअय।”
50. तखन सभ शिष्‍य हुनका छोड़ि कऽ भागि गेलनि।
51. ओहिठाम एक नवयुवक सेहो छल जे यीशुक पाछाँ-पाछाँ चलैत छल। ओ अपना देह पर मात्र चद्दरि लपेटने रहय। लोक सभ ओकरो पकड़ऽ लागल
52. लेकिन ओ चद्दरि ओकरा सभक हाथ मे छोड़ि कऽ नंगटे दौड़ैत भागल।
53. तखन यीशु केँ महापुरोहितक ओहिठाम लऽ गेलनि, जाहिठाम सभ मुख्‍यपुरोहित, बूढ़-प्रतिष्‍ठित लोक और धर्मशिक्षक सभ जमा भेल छलाह।
54. पत्रुस सेहो किछु दूरे रहि कऽ यीशुक पाछाँ-पाछाँ महापुरोहितक अङने मे पैसि गेलाह। ओ सिपाही सभक संग घूर लग बैसि कऽ आगि तापऽ लगलाह।