A A A A A

मसीह-दूत 10:1-23
1. कैसरिया नगर मे कुरनेलियुस नामक एक आदमी छलाह जे रोमी सेना मे ओहि पल्‍टनक कप्‍तान छलाह जे “इटली पल्‍टन” कहबैत छल।
2. ओ अपन पूरा परिवार भक्‍तिपूर्बक परमेश्‍वरक भय मानऽ वला छलाह। ओ गरीब सभ केँ दान दैत छलाह और परमेश्‍वर सँ नियमित रूप सँ प्रार्थना करैत छलाह।
3. एक दिन बेरिआ मे, करीब तीन बजे परमेश्‍वरक एक स्‍वर्गदूत हुनका दर्शन देलथिन। ओ स्‍वर्गदूत केँ अपना लग अबैत स्‍पष्‍ट देखलथिन। स्‍वर्गदूत हुनका नाम लऽ कऽ कहलथिन, “यौ कुरनेलियुस!”
4. कुरनेलियुस डेराइते हुनका दिस एकटक लगा कऽ तकैत कहलथिन, “की बात, प्रभु?” स्‍वर्गदूत उत्तर देलथिन, “अहाँक प्रार्थना और गरीब सभ केँ देल गेल दान सभ चढ़ौनाक रूप मे परमेश्‍वर लग पहुँचल अछि, और ओ अहाँ पर ध्‍यान देलनि अछि।
5. आब अहाँ एना करू—किछु गोटे केँ याफा नगर मे सँ सिमोन, जकर दोसर नाम पत्रुस छैक, तकरा बजाबऽ लेल पठा दिऔक।
6. ओ ओहिठाम दोसर सिमोन नामक आदमी, जे चमड़ाक कारोबार करैत अछि, आ जकर घर समुद्रक कात मे छैक, तकरा ओतऽ रहि रहल अछि।”
7. स्‍वर्गदूत केँ चल गेलाक बाद, कुरनेलियुस दूटा नोकर और अपन निजि सहायक सभ मे सँ एक भक्‍त सैनिक केँ बजबौलनि।
8. ओ ओकरा सभ केँ सभ बात कहि देलथिन आ याफा नगर पठौलथिन।
9. प्रात भेने दुपहर कऽ ओ सभ याफा नगर लग पहुँचल, आ एम्‍हर पत्रुस प्रार्थना करबाक लेल छत पर गेलाह।
10. हुनका भूख लगलनि और किछु खयबाक इच्‍छा भेलनि, मुदा भानस भइए रहल छल। ओही समय मे हुनका सामने एक दृश्‍य प्रगट भेलनि।
11. ओ स्‍वर्ग केँ खुजल और ओतऽ सँ बड़का चद्दरि जकाँ कोनो चीज, जकर चारू खूँट बान्‍हल छलैक, से नीचाँ पृथ्‍वी दिस उतारल जाइत देखलनि।
12. ओहि चद्दरि मे सभ प्रकारक चौपाया जानबर, जमीन मे ससरऽ वला जीव-जन्‍तु और आकाशक चिड़ै सभ छल।
13. तखन पत्रुस केँ एक आवाज सुनाइ पड़लनि जे, “पत्रुस, उठह, आ एहि मे सँ मारि कऽ खाह!”
14. पत्रुस उत्तर देलथिन, “नहि, नहि प्रभु! हम कोनो अपवित्र वा अशुद्ध वस्‍तु कहियो नहि खयलहुँ।”
15. एहि पर फेर आवाज आयल जे, “जाहि वस्‍तु केँ परमेश्‍वर शुद्ध ठहरौने छथिन, तकरा तोँ अशुद्ध नहि कहक।”
16. ई बात तीन बेर भऽ गेल, तखन एकाएक ओ चद्दरि फेर स्‍वर्ग दिस घीचि लेल गेल।
17. पत्रुस सोचिए रहल छलाह जे एहन दृश्‍यक अर्थ की भऽ सकैत अछि, ठीक ओही समय मे कुरनेलियुसक पठाओल आदमी सभ पुछैत-पुछैत सिमोनक घर लग पहुँचल, और बाहर वला द्वारि लग ठाढ़ भऽ
18. सोर पारि कऽ पुछलक, “की सिमोन पत्रुस नामक कोनो व्‍यक्‍ति एतऽ ठहरल छथि?”
19. पत्रुस एखनो ओहि दृश्‍यक सम्‍बन्‍ध मे विचार कऽ रहल छलाह कि परमेश्‍वरक आत्‍मा हुनका कहलथिन, “सिमोन! तोरा तीन आदमी ताकि रहल छह।
20. तेँ आब नीचाँ जाह आ कोनो तरहक दुबिधा मे नहि पड़ि कऽ ओकरा सभक संग जाह, कारण हमहीं ओकरा सभ केँ तोरा लग पठौने छिऐक।”
21. पत्रुस नीचाँ जा कऽ ओकरा सभ केँ कहलथिन, “जिनका अहाँ सभ ताकि रहल छी, से हम छी। अहाँ सभ कोन काज सँ अयलहुँ?”
22. ओ सभ उत्तर देलकनि, “हम सभ कप्‍तान कुरनेलियुसक ओतऽ सँ अयलहुँ। ओ धार्मिक आ परमेश्‍वरक भय मानऽ वला लोक छथि। हुनका समस्‍त यहूदी जाति मे मान्‍यता छनि। एक पवित्र स्‍वर्गदूत हुनका आज्ञा देलथिन जे अपने केँ ओ अपना ओहिठाम बजबा कऽ अपनेक उपदेश सुनथि।”
23. तखन पत्रुस ओकरा सभ केँ घरक भीतर आनि कऽ सेवा-सत्‍कार करऽ लगलथिन। तकर प्राते भेने पत्रुस ओकरा सभक संग विदा भेलाह, और याफा सँ किछु विश्‍वासी भाय सेहो संग गेलनि।