دن کے دورے

افسیوں ۴:۲۵
पस झूट. बोलना छोड़ कर हर एक शख़्स अपने पड़ोसी से सच बोले, क्यूंकि हम आपस में एक दूसरे के 'बदन हैं।