دن کے دورے

رسولوں ۱۷:۲۷
ताकि “ख़ुदा” को ढूँडें, शायद कि टटोलकर उसे पाएँ, हर वक़्त वो हम में से किसी से दूर नहीं।