दिन का पद्य

गलातियों ५:२२
पर आत्मा का फल प्रेम, आनन्द, मेल, धीरज,