पुराना वसीयतनामा
नए करार
Hindi ERV 2010
← ६

उत्पत्ति ७

८ →

तब यहोवा ने नूह से कहा, “मैंने देखा है कि इस समय के पापी लोगों में तुम्हीं एक अच्छे व्यक्ति हो। इसलिए तुम अपने परिवार को इकट्ठा करो और तुम सभी जहाज में चले जाओ।

हर एक शुद्ध जानवर के सात जोड़े, (सात नर तथा सात मादा) साथ में ले लो और पृथ्वी के दूसरे अशुद्ध जानवरों के एक-एक जोड़े एक नर और एक मादा लाओ। इन सभी जानवरों को अपने साथ जहाज़ में ले जाओ।

हवा में उड़ने वाले सभी पक्षियों के सात जोड़े (सात नर और सात मादा) लाओ। इससे ये सभी जानवर पृथ्वी पर जीवित रहेंगे, जब दूसरे जानवर नष्ट हो जायेंगे।

अब से सातवें दिन मैं पृथ्वी पर बहुत भारी वर्षा भेजूँगा। यह वर्षा चालीस दिन और चालीस रात होती रहेगी। पृथ्वी के सभी जीवित प्राणी नष्ट हो जायेंगे। मेरी बनाई सभी चीज़े खतम हो जायेंगे।”

नूह ने उन सभी बातों को माना जो यहोवा ने आज्ञा दी।

वर्षा आने के समय नूह छः सौ वर्ष का था।

नूह और उसका परिवार बाढ़ के जल से बचने के लिए जहाज़ में चला गया। नूह की पत्नी, उसके पुत्र और उनकी पत्नियाँ उसके साथ थीं।

पृथ्वी के सभी शुद्ध जानवर एवं अन्य जानवर, पक्षी और पृथ्वी पर रेंगने वाले सभी जीव

नूह के साथ जहाज में चढ़े। इन जानवरों के नर और मादा जोड़े परमेश्वर की आज्ञा के अनुसार जहाज में चढ़े।

१०

सात दिन बद बाढ़ प्रारम्भ हुई। धरती पर वर्षा होने लगी।

११

[This verse may not be a part of this translation]

१२

[This verse may not be a part of this translation]

१३

[This verse may not be a part of this translation]

१४

वे लोग और पृथ्वी के हर एक प्रकार के जानवर जहाज़ में थे। हर प्रकार के मवेशी, पृथ्वी पर रेंगने वाले हर प्रकार के जीव और हर प्रकार के पक्षी जहाज़ में थे।

१५

ये सभी जानवर नूह के साथ जहाज़ में चढ़े। हर जाति के जीवित जानवरों के ये जोड़े थे।

१६

परमेश्वर की आज्ञा के अनुसार सभी जानवर जहाज़ में चढ़े। उनके अन्दर जाने के बाद यहोवा ने दरवाज़ा बन्द कर दिया।

१७

चालीस दिन तक पृथ्वी पर जल प्रलय होता रहा। जल बढ़ना शुरु हुआ और उसने जराज की जमीन से ऊपर उठा दिया।

१८

जल बढ़ता रहा और जहाज़ पृथ्वी से बहुत ऊपर तैरता रहा।

१९

जल इतना ऊँचा उठा कि ऊँचे-से-ऊँचे पहाड़ भी पानी में डूब गए।

२०

जल पहाड़ों के ऊपर बढ़ता रहा। सबसे ऊँचे पहाड़ से तेरह हाथ ऊँचा था।

२१

[This verse may not be a part of this translation]

२२

[This verse may not be a part of this translation]

२३

इस तरह परमेश्वर ने पृथ्वी के सभी जीवित हर एक मनुष्य, हर एक जानवर, हर एक रेंगने वाले जीव और हर एक पक्षी को नष्ट कर दिया। वे सभी पृथ्वी से खतम हो गए। केवल नूह, उसके साथ जहाज में चढ़े लोगों और जानवरों का जीवन बचा रहा।

२४

और जल एक सौ पचास दिन तक पृथ्वी को डुबाए रहा।

Hindi ERV 2010
Easy-to-Read Version Copyright © 2010 World Bible Translation Center