भजन संहिता 130

1

हे यहोवा, मैं ने गहिरे स्थानों में से तुझ को पुकारा है!

2

हे प्रभु, मेरी सुन! तेरे कान मेरे गिड़गिड़ाने की ओर ध्यान से लगे रहें!

3

हे याह, यदि तू अधर्म के कामों का लेखा ले, तो हे प्रभु कौन खड़ा रह सकेगा?

4

परन्तु तू क्षमा करनेवाला है? जिस से तेरा भय माना जाए।

5

मैं यहोवा की बाट जोहता हूं, मैं जी से उसकी बाट जोहता हूं, और मेरी आशा उसके वचन पर है;

6

पहरूए जितना भोर को चाहते हैं, हां, पहरूए जितना भोर को चाहते हैं, उस से भी अधिक मैं यहोवा को अपने प्राणों से चाहता हूं।।

7

इस्राएल यहोवा पर आशा लगाए रहे! क्योंकि यहोवा करूणा करनेवाला और पूरा छुटकारा देनेवाला है।

8

इस्राएल को उसके सारे अधर्म के कामों से वही छुटकारा देगा।।