भजन संहिता 124

1

इस्राएल यह कहे, कि यदि हमारी ओर यहोवा न होता,

2

यदि यहोवा उस समय हमारी ओर न होता जब मनुष्यों ने हम पर चढ़ाई की,

3

तो वे हम को उसी समय जीवित निगल जाते, जब उनका क्रोध हम पर भड़का था,

4

हम उसी समय जल में डूब जाते और धारा में बह जाते;

5

उमड़ते जल में हम उसी समय ही बह जाते।।

6

धन्य है यहोवा, जिस ने हम को उनके दातों तले जाने न दिया!

7

हमार जीव पक्षी की नाईं चिड़ीमार के जाल से छूट गया; जाल फट गया, हम बच निकले!

8

यहोवा जो आकाश और पृथ्वी का कर्त्ता है, हमारी सहायता उसी के नाम से होती है।